प्राकृतिक आपदा : प्रभाव एवं प्रबन्धन

₹396

₹495

DETAILS
EDITED BY डॉ. सुमिता पवांर, डॉ. वी. पी. नैथानी
ISBN 978-93-81416-25-9
EDITION 2018
LANGUAGE HINDI
BINDING HB
SIZE DEMY
PAGES 132
PUBLISHER AKHAND PUBLISHING HOUSE

प्रस्तुत पुस्तक सम्पूर्ण विश्व में घटित प्राकृतिक आपदाओं से प्रभावित जनो को समर्पित हैं, जिनको प्राकृतिक आपदाओं की मार झेलते हुये भारी धन व जन सम्पत्तियों का नुकसान झेलते हुये अपने सुखमय जीवन से वांछित होना पड़ा । हम हृदय उन सभी आपदा प्रभावित जनों के लिए कामना करते हैं कि ईश्वर उनका जीवन पुनः सुखमय व सुरक्षित बनायें तथा सम्पूर्ण विश्व में रहने वाले मानव समुदाय को प्राकृतिक आपदाओं से निपटने हेतु प्रभावी आपदा प्रबंधन नीति तैयार करने की बौद्धिक व शारीरिक शक्ति प्रदान करें।

प्रस्तुत पुस्तक "प्राकृतिक आपदा : प्रभाव एवं प्रबंधन" विभिन्न विश्वविद्यालय के स्नातक व परास्नातक भूगोल के पाठ्यकर्मो को ध्यान में रखकर राष्ट्रभाषा हिंदी में अत्यंत सरल ढंग से लिखी गई है। पुस्तक के कुल ९ अध्याय हैं, जिनमें प्राकृतिक आपदा का अर्थ, प्रकार, प्रभाव एवं आपदा प्रबंधन नीति पर्वतीय क्षेत्रों के विशेष सन्दर्भ में तथा आपदाग्रस्त जनसमूह की भागीदारी व सूचना व संचार प्रोधोगिकी की भूमिका में विस्तार से चर्चा की गई है ।

DETAILS
EDITED BY डॉ. सुमिता पवांर, डॉ. वी. पी. नैथानी
ISBN 978-93-81416-25-9
EDITION 2018
LANGUAGE HINDI
BINDING HB
SIZE DEMY
PAGES 132
PUBLISHER AKHAND PUBLISHING HOUSE

Write a review

Note: HTML is not translated!
    Bad           Good